सबसे सर्वश्रेष्ठ स्नान

चोंच डुबा कर दो चार बूँदें हाथ में लेकर अपने ऊपर छिड़कने को “चंचु” स्नान कहते हैं.. . . इससे भी श्रेष्ठ स्नान होता है “नल नमस्कार स्नान” जो शीतॠतु में नल को “नमस्कार” करके किया जाता है। कई वीर साहस करके “नल” को “स्पर्श” कर लेते हैं। परंतु ज्ञानी जन दुस्साहस की वर्जना करते