Samay aur samajh

‘समय’ और ‘समझ’, दोनों एक साथ खुश किस्मत लोगों को ही मिलते हैं क्योंकि, अक्सर ‘समय’ पर ‘समझ’ नहीं आती और ‘समझ’ आने पर ‘समय’ निकल जाता हे

सड़क कितनी भी साफ हो “धूल” तो हो ही जाती है, इंसान कितना भी अच्छा हो “भूल” तो हो ही जाती है।

सड़क कितनी भी साफ हो “धूल” तो हो ही जाती है, इंसान कितना भी अच्छा हो “भूल” तो हो ही जाती है।