Ghalib v/s Mrs Ghalib मुशायरा

Ghalib v/s Mrs Ghalib मुशायरा Galib: हमें तो अपनों ने ही लूटा, गैरोमे कहा दम था. हमारी कश्ती वहा डूबी, जहाँ पानी कम था. Mrs Ghalib: तुम तो थे ही गधे, तुम्हारी अकल में कहाँ दम था. वहाँ कश्ती लेके ही क्यों गये, जहाँ पानी कम था. Wife’s always rocks.