इस बरसाती ठण्ड के मौसम में रजाई के अंदर रहना ही श्रेष्ठ कर्म है

इस बरसाती ठण्ड के मौसम में रजाई के अंदर रहना ही श्रेष्ठ कर्म है
और
टमाटर की चटनी के साथ पकोड़े, चाय मिलना मोक्ष की प्राप्ति…
और
सुबह सुबह आकर सोये हुए को जगाने के लिये उसकी रजाई खींच लेने को महापाप की श्रेणी में
रखा जाना चाहिये।।।

अगर इस समय कोई सुबह सुबह किसी पर ठंडा पानी डाल दे

तो वो घटना भी आतंकवादी हमले के अंतर्गत माना जाये ।